Ear Infection And Solution : कान के रोग और उपचार

By | December 21, 2016

कान के रोग और उपचार:-

Ear Infection And Solution-

​कान की समस्याएं और रोग अधिकतर सर्दियों से जुड़े होते हैं। कई लोग  सर्दी की बीमारी की वजह से कान के रोग के शिकार होते हैं, और अगर सर्दी का इलाज जल्द नहीं किया गया तो सुनने की शक्ति पर असर पड़ सकता है। यह देखा गया है कि अधिकतर बच्चों में कान के पस का निर्माण होता है, जो अपने आप में कान का एक गंभीर रोग होता है और इसका जल्द से जल्द इलाज कराना ज़रूरी होता है।

कान के रोग के लक्षण :-

एक घंटे से ज्यादा कान में दर्द होना, कान से तरल पदार्थ का स्राव होना,कान के दर्द के साथ बुखार,कान के दर्द के साथ सर दर्द होना वगैरह कान के रोग के लक्षण होते हैं।

कान के रोग के उपचार के लिए कुछ जड़ी बूटियाँ और आयुर्वेदिक उपचार:-

1) बेल:- कान के रोग के उपचार के लिए बेल के पेड़ की जड़ को नीम के तेल में डुबोकर उसे जला दें और जो तेल इसमें से रिसेगा, वह सीधे कान में दाल दें। इससे कान के दर्द और संक्रमण में काफी हद तक राहत मिलती है।

2) नीम:- नीम में एंटी-सेप्टिक गुण होते हैं, जो ऐसे तत्वों को ख़त्म करने के काबिल होते हैं जो कान में विकार पैदा करते हैं।

3)तुलसी:- तुलसी का रस गुनगुना करके कान में डालने से भी कान के रोगों में काफी सहायता मिलती है।

4) नींबू:- अदरक के रस में नींबू का रस मिलाएं और इसकी चार पांच बूँदें कान में डालें। आधे घंटे के बाद रुई से कान को साफ कर दें. फिर सरसों का तेल गुनगुना करके कान में डालने से आराम मिलेगा।

Ear Infection And Solution-

मेथी को गाय के दूध में मिलाकर उसकी कुछ बूँदें संक्रमित कान डालने से भी काफी राहत मिलती है।

तिल के तेल में तली हुई लौंग की कुछ बूँदें भी कान के दर्द में आराम पहुंचाती हैं।

अदरक के रस और प्याज़ के रस के प्रयोग से भी कान के दर्द में काफी आराम मिलता है।

Sponsored By: MyTechnode.Com: Hacking, Programming, Blogging and Technical Tricks

Author: Shilpa Thakare

I am Shilpa Thakare. Professional & Motivational Blogger @ DBInfoweb. Always think Positive, Do Positive than Sky is not Your Limit. My Dream Is write inspirational Hindi , Hindi Quotes, Motivational stories and motivate people to make their happy Successful life...

Leave a Reply

Your email address will not be published.