Happy Independence Day India : What can i do for India : Our Duty

Happy Independence Day India : What can i do for India : Our Duty
Happy Independence Day India : What can i do for India : Our Duty
Get Email of Our New Articles and Become Free Subscriber of DBInfoweb (90,000+ Joined Us):

Independence day, Swatantrata diwas 70th, 15 August 2016, Make in India, proud to be an Indian, Indian flag, Speech, My duties for India History of India

Hello Dears,

I am not a member of this website, one of my friend give me this opportunity to write here. He is admit in hospital and continuously requesting to write something because he is unable to do, so i am writing this article about our independence day.

  Happy Independence Day India :

बहुत साल पहले भारत के महान नेताओं ने ‘भाग्यवधु से एक प्रतिज्ञा की थी’ कि वो हमें अपने जीवन के सुखों के त्याग के द्वारा मुक्त और शांतिपूर्ण देश देंगे। आज हम यहाँ बिना किसी डर के और खुशी चेहरों के साथ स्वतंत्रता दिवस मनाने आए है, केवल हमारे बहादुर पूर्वजों की वजह से। हम सोच नहीं सकते कि कितना कठिन होगा वो समय। हमारे पास अपने पूर्वजों को उनके बहुमूल्य कड़ी मेहनत और बलिदान के एवज में देने के लिये कुछ भी नहीं है। हमलोग केवल उनको और कार्यों को याद रख सकते है तथा राष्ट्रीय कार्यक्रमों को मनाने के दौरान उन्हें सलामी दे सकते है। वो हमेशा हमारे दिल में रहेंगे। सभी भारतीय नागरिकों के हँसते चेहरों के साथ स्वतंत्रता के बाद भारत का नया जन्म हुआ।

ब्रिटीश शासन के शिकंजे से 15 अगस्त 1947 को भारत को स्वतंत्रता मिली। पूरे देश में भारतीय लोग हर साल इस राष्ट्रीय उत्सव को पूरी खुशी और उत्साह के साथ मनाते है। ये सभी भारतीय नागरिकों के लिये एक महान दिन था जब भारतीय तिरंगे को नई दिल्ली के लाल किले पर फहराया था।

Happy Independence Day
Happy Independence Day

अपने पूर्वजों के कड़े संघर्षों की वजह से हम अपनी आजादी का उपभोग करने लायक बने है और अपनी इच्छा से खुली हवा में साँस से सकते है। अंग्रेजों से आजादी पाना बेहद असंभव कार्य था लेकिन हमारे बाप-दादाओं ने लगातार प्रयास से इसको प्राप्त कर लिया। हम उनके किये कार्य को कभी भूल नहीं सकते और हमेशा इतिहास के द्वारा उन्हें याद करते रहेंगे। केवल एक दिन में सभी स्वतंत्रता सेनानीयों के कामों को हम याद नहीं कर सकते हालाँकि दिल से उन्हें सलामी दे सकते है। वो हमेशा हमारी यादों में रहेंगे और पूरे जीवन के लिये प्रेरणा का कार्य करेंगे। आज सभी भारतीयों के लिये बहुत महत्वपूर्ण दिन है जिसको हम महान भारतीय नेताओं के बलिदानों को याद करने के लिये मनाते है, जिन्होंने देश की आजादी और समृद्धि के लिये अपना जीवन दे दिया। भारत की आजादी मुमकिन हो सकी क्योंकि सहयोग, बलिदान, और सभी भारतीयों की सहभागिता थी। हमें महत्व और सलामी देनी चाहिये उन सभी भारतीय नागिरकों को क्योंकि वो असली राष्ट्रीय हीरो थे। हमें धर्मनिरपेक्षता में भरोसा रखना चाहिये और एकता को बनाए रखने के लिये अलग नहीं होना है जिससे इसे कोई तोड़ न सके और हम पर फिर से राज न कर पाये।

हमें आज कमस खाना चाहिये कि हम कल के भारत के एक जिम्मेदार और शिक्षित नागरिक बनेंगे। हमें गंभीरता से अपने कर्तव्यों को निभाना चाहिये और लक्ष्य प्राप्ति के लिये कड़ी मेहनत करनी चाहिये तथा सफलतापूर्वक इस लोकतांत्रित राष्ट्र को नेतृत्व प्रदान करना चाहिये।

हमारा कर्तव्य यह है कि हम अपने देश के स्वाभिमान और गरिमा कि रक्षा करें। आज हमारा देश अपनी संस्कृति में पिछड़ रहा है। तभी तो आज इसे एक बूढा देश कहते है , इसके कसूरवार हम है। हम हि अपनी संस्कृति को भूलते जा रहे है । हम हि इसका सम्मान नही करते । चाहे भाषा हि की बात क्यूँ न हो इसे तो हम भुलाते हि जा रहे हैं । आज उत्तर भारत के लोगो को छोड़कर शेष भारत के निवासियों को हिन्दी हि नही आती , यदि आती है तो सही नही आती।

हमें तो बस अंग्रेजों की नक़ल करनी हि आती है। अरे जब प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति हि अपनी भाषा का अपमान करेंगे तो जनता तो करेगी हि । जो देश अपनी संस्कृति के प्रति इमानदार रहता है वही देश सफलता की सीडी चड़ता है , आज पश्चिम देश क्यों विकसित है क्यों की वो अपनी संस्कृति का सम्मान करते हैं, चाहे उसमे कोई बुराई हि क्यों न हो , और वैसे भी सभी में कुछ न कुछ बुराई तो होई हि है।

कभी हमारा देश विश्व गुरु कहलाता था, क्यों की हम अपनी संस्कृति को अपनाते थे । यदि हम इसकी रक्षा नही करेंगे तो और कौन करेगा ,और एक दिन ऐसा भी आ सकता है जब ये रहे हि न । तो हर देशवासी का यही कर्तव्य है की वो अपने देश के स्वाभिमान, गरिमा,संस्कृति ,भाषा ,धर्मं की रक्षा करे।

देश के प्रति हमारा कर्त्तव्य

एक समाज, समुदाय या देश के नागरिक होने के नाते कुछ कर्त्तव्यों का पालन व्यक्तिगत रुप से भी किये जाने की आवश्यकता हैं। देश में उज्ज्वल भविष्य प्रदान करने के लिये सभी को नागरिकता के कर्त्तव्यों का पलान करना चाहिये। एक देश पिछड़ा, गरीब या विकासशील हैं तो सब-कुछ उसके नागरिकों पर निर्भर करता हैं तब तो और भी विशेष रुप से जब वो देश एक प्रजातांत्रिक देश हों।

  • प्रत्येक नागरिक को देश के अच्छे नागिरक होने के साथ ही देश के प्रति वफादार भी होना चाहिये। लोगों को सभी नियमों, अधिनियमों और सरकार द्वारा सुरक्षा और बेहतर जीवन के लिये बनाये गये कानूनों पालन करना चाहिये।
  • एक आम नागरिक बनों, किसी को भी अपराध के प्रति सहानुभूति नहीं दिखानी चाहिये और इसके खिलाफ आवाज भी उठानी चाहिये।
  • भारत के लोग मतदान के द्वारा मुख्य-मंत्री, प्रधानमंत्री और अन्य राजनीतिक नेताओं को चुनने का अधिकार रखते हैं, इसलिये उन्हें गलत नेता को चुनकर अपनी वोट को बेकार नहीं करना चाहिये जो देश को भ्रष्ट करें। हांलाकि, उन्हें अपने नेता को अच्छे से जानकर और समझ कर अपना मत देना चाहिये।
  • हमारा कर्त्तव्य देश को स्वच्छ और सुंदर बनाना हैं।
  • हमें अपने देश की ऐतिहासिक विरासत और पर्यटन स्थलों को नष्ट और गंदा नहीं करना चाहिये। लोगों को दैनिक समाचारों और अन्य दैनिक गतिविधियों में देश में चल रही अच्छी और बुरी खबरों के बारे में जानने के लिये दिलचस्पी लेनी चाहिये।
  • अमीर और गरीब के बीच में बहुत ज्यादा अन्तर हैं। अमीर व्यक्ति गरिबों को न तो समझते ही हैं न ही उनके प्रति अपनी जिम्मेदारियों का पालन करते हैं। वो देश की आर्थिक वृद्धि के बारे में अपनी जिम्मेदारी को भूल गये हैं जो देश में से गरीबी को हटाने से ही बढ़ सकती हैं। सभी को पिछड़े लोगों की उठने में (आर्थिक रुप से समृद्ध होने में), सामाजिक संघर्ष के मुद्दों को हटाने में, भ्रष्टाचार को खत्म करने में, गंदी राजनीति को बंद करके देश की समृद्धि में मदद करनी चाहिये।
  • एक स्वार्थ रहित और देश के प्रति सबसे अच्छे कर्त्तव्य के पालन का उदाहरण भारतीय सैनिकों द्वारा देश की सीमाओं की सुरक्षा के लिये निभाई जाने वाली ड्यूटी हैं। वो हमें और हमारे देश को विरोधियों से बचाने के लिये 24 घंटे बॉडर पर खड़े रहते हैं। वो अपनी जिम्मेदारी को प्रतिदिन निभाते हैं यहाँ तक कि इसके लिये इन्हें बहुत-सी परेशानियों का भी सामना करना पड़ता हैं। वो अपने प्रियजनों से अलग रहते हैं और आरामदायक जीवन भी नहीं जीते हैं। हांलाकि, सभी प्रकार की आधारभूत सुविधाओं के होने के बाद भी हम बहुत छोटी सी जिम्मेदारियों जैसे साफ-सफाई, नियमों का पालन करना आदि को निभाने में भी असक्षम हैं।
  • माता-पिता देश के प्रति सबसे ज्यादा जिम्मेदार होते हैं क्योंकि वो ही देश के लिये एक अच्छे और बुरे नेता देने के मुख्य स्त्रोत हैं। वो बच्चों के प्राथिमक आधारभूत विद्यालय होते हैं इसलिये उन्हें हर समय चौकस रहना चाहिये क्योंकि वो देश के भविष्य को पोषण देने के लिये जिम्मेदार हैं। कुछ लालची माता-पिता (चाहे गरीब हो या अमीर) के कारण, हमारा देश आज भी गरीबी, लिंग असमानता, बाल-श्रम, बुरे सामाजिक और राजनीतिक नेता, कन्या भ्रूण-हत्या जैसी सामाजिक बुराईयों को अस्तित्व में रखता हैं और जिससे देश का भविष्य बेकार है। सभी माता-पिता को देश के प्रति अपने कर्त्तव्यों को समझना चाहिये और अपने बच्चों (चाहे लड़की हो या लड़का) को उचित शिक्षा के लिये स्कूल अवश्य भेजना चाहिये, इसके साथ ही अपने बच्चों के स्वास्थ्य, स्वच्छता और नैतिक विकास की देखभाल करनी चाहिये, उन्हें अच्छी आदतें, शिष्टाचार, और देश के प्रति उनके कर्त्तव्यों को सिखाना चाहिये।
  • शिक्षक को अपने छात्रों को अच्छा और सफल नागरिक बनाकर देश को अच्छा भविष्य देने में शिक्षक द्वितीय स्त्रोत हैं। उन्हें अपने देश के प्रति अपने कर्त्तव्यो को समझना चाहिये और कभी भी अपने छात्रों के मध्य (अमीर-गरीब, बुद्धिमान- औसत छात्रों में) भेदभाव नहीं करना चाहिये। उन्हें देश के लिए अच्छे नेता और उज्ज्वल भविष्य देने के लिए अपने सभी छात्रों को समान ढंग से पढ़ाना चाहिए।
  • एक देश का स्तर देश के राजनेताओं पर निर्भर करता हैं। एक राजनेता (जो लालची न हो और न ही भ्रष्टाचार में लिप्त हो) देश के विकास में अपनी विभिन्न महान भूमिकाओं को निभाता हैं वहीं एक भ्रष्ट राजनेता देश को नष्ट कर सकता हैं। इसलिये एक राजनेता को अपने कर्त्तव्यों को समझकर देश के प्रति अपने कर्त्तव्यों का ईमानदारी से पालन करना चाहिये।
  • पुलिस की नियुक्ति शहर, राज्यों और राष्ट्र स्तर पर विभिन्न स्थानों पर पूरे देश में सुरक्षा, शान्ति और सद्भावना को बनाये रखने के लिये की जाती हैं। वो लोगों की उम्मीद हैं, इसलिये उन्हें अपने देश और लोगों के साथ वफादार होना चाहिये।
  • आम आदमी विभिन्न तरीकों से देश के लिये जिम्मेदार हैं। उन्हें अपने निष्ठापूर्ण कर्त्तव्यों को समझना चाहिये और देश के नेतृत्व के लिये अच्छा नेता चुनना चाहिये जो देश को सही दिशा में ले जा सके। उन्हें अपने घर के साथ-साथ अपने आस-पास के वातावरण को साफ और स्वच्छ रखना चाहिये जिससे कि उनका परिवार स्वस्थ्य, खुशहाल और बीमारी मुक्त बना सके। उन्हें अनुशासित, समय का पाबंद और अपने पेशे के प्रति कर्त्तव्य निष्ठ होना चाहिये।

Jay Hind. Jay Bharat.

Thanks.

निवेदन :
  • कृपया अपने Comments से बताएं आपको यह Post कैसी लगी.
  • यदि आपके पास Hindi में कोई Inspirational Story, Important Article या अन्य जानकारी हो तो आप हमारे साथ शेयर कर सकते हैं. कृपया अपनी फोटो के साथ हमारी e mail ID : info@dbinfoweb.com पर भेजें. आपका Article चयनित होने पर आपकी फोटो के साथ यहाँ प्रकाशित किया जायेगा.
Get Email of Our New Articles

About DB 6 Articles
DB is a Friendship of Two Best Friends. They are very happy. One Day they will come in front of you all. They are the birds who is flying in the sky with open wings. They are always happy and want to make happy whole world.

3 Comments on Happy Independence Day India : What can i do for India : Our Duty

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*